डिजिटल रुपया के बारे में जानकारी: डिजिटल रुपया क्या है? विस्तार से जाने इसकी विशेषताएं एवं लाभ

आज के डिजिटल युग में दिन-ब-दिन कोई न कोई नई तकनीक पर आधारित सुविधाएं आ रहे हैं। इन्ही सुविधाओं का एक कड़ी है ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी। इस टेक्नोलॉजी के अंतर्गत ही भारत सरकार ने डिजिटल रुपया के बारे में सोचा है और उसे लागू भी कर दिया है। भारत सरकार ने पैसों के लेनदेन और इसके सुरक्षित रख रखाव को ध्यान में रखते हुए हैं डिजिटल रुपए के बारे में सोचा है।

तो दोस्तों आज हम आप लोगों को बताने जा रहे हैं डिजिटल रुपया के बारे में की डिजिटल रुपया क्या है इसकी क्या विशेषताएं हैं। इससे हमें क्या लाभ होने वाला है इत्यादि विस्तार से जानने के लिए आप हमारे इस पोस्ट के साथ बने रहें। हम आपको पूरी जानकारी विस्तार पूर्वक देंगे। अगर आपको जानकारी अच्छा लगे तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें या कोई त्रुटी दिखाई दे तो उसके बारे में भी हमें बताएं। हम आगे चलकर इसमें जरूर सुधार करेंगे और आपकी बातों को रखेंगे।

डिजिटल रुपया के बारे में जानकारी

डिजिटल रुपया के बारे में जानकारी

डिजिटल रुपया एक प्रकार से क्रिप्टो करेंसी के जैसा ही डिजिटल या यूं कहें इलेक्ट्रॉनिक रुपया होगा। यह रुपया ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर आधारित है होगा। भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया पिछले 2021 से ही डिजिटल रुपया की अवधारणा पर कार्यरत थी और इसके बारे में उन्होंने घोषणा भी की थी कि जल्दी ही मार्केट में डिजिटल रुपया का प्रचलन होगा। इस प्रकार पिछले हफ्ते केंद्रीय बैंक के निदेशक मंडल ने बैठक की और इसे लांच करने का निर्णय लिया।

डिजिटल रुपया के बारे में उन्होंने बताया कि यह नियमित कागजी मुद्रा के साथ है मौजूद होगा और सभी प्रकार के लेन देन में कानूनी निविदा के रूप में स्वीकार किया जाएगा। इस मुद्रा के मार्केट में लागू हो जाने से दुरस्त क्षेत्रों में लेन देन की प्रक्रिया काफी आसान हो जायेगा। इसका उपयोग कोई भी व्यक्ति डिजिटल रूप में कहीं भी आसानी से कर पाएगा।

डिजिटल रुपया के लाभ

भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने डिजिटल रुपया के बारे में जानकारी देते हुए बताया की पब्लिक को इससे क्या-क्या लाभ हो सकता है:-

  • कागजी मुद्रा के अपेक्षा डिजिटल रुपया काफी सुरक्षित है क्योंकि इसका डुप्लीकेट नहीं बनाया जा सकता है जबकि कागजी मुद्रा का डुप्लीकेट या नकली मुद्रा मार्केट में मिलते रहता है जो देश और आम जनता के लिए काफी नुकसानदायक है।
  • डिजिटल मुद्रा का डुप्लीकेट कोई भी व्यक्ति इसलिए नहीं कर सकता है क्योंकि यह ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर आधारित है और इसका डाटा सुरक्षित सर्वर पर संग्रहित रहता है
  • डाटा सुरक्षित सर्वर पर संग्रहित रहने के कारण सरकार के लिए जालसाजों को ट्रैक करना और उनकी जांच करना आसान हो जाएगा।
  • डिजिटल रुपए का सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि उन्हें आसानी से गुना और विभाजित किया जा सकता है। इससे फायदा यह होगा कि लोगों को कम से कम मात्रा में मुद्रा का लेनदेन करना भी काफी आसान हो जाएगा। यह कार्य कागजी मुद्रा में करना आसान नहीं होता है।
  • कागजी मुद्रा की अपेक्षा डिजिटल रुपए की बड़ी मात्रा में नकदी के लिए भंडारण के लिए आसन की आवश्यकता भी खत्म हो जाएगी जिससे घरों एवं व्यवसाय में आस्थान की अत्यधिक अवश्यकता नहीं पड़ेगी।
  • कागजी मुद्रा की तरफ डिजिटल मुद्रा का चोरी होने का कोई खतरा नहीं रहेगा क्योंकि यह एक सुरक्षित सर और पर उपस्थित होगा।
  • इस तरह से देखा जाए तो डिजिटल मुद्रा कागजी मुद्रा की अपेक्षा लेन-देन का आसान और सुरक्षित तरीका होने वाला है।

भारत में डिजिटल रुपया का लॉन्चिंग डेट

भारत सरकार अर्थात भारतीय रिजर्व बैंक ने डिजिटल रुपया के बारे में सबसे पहली घोषणा फरवरी 2019 में किया था। भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर शशिकांत दास ने कहा था कि केंद्रीय बैंक भारतीय डिजिटल मुद्रा के पायलट प्रोजेक्ट पर काम कर रही है जो आने वाले कुछ ही सालों में लांच किया जाएगा। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया था कि डिजिटल रुपया कब लांच किया जाएगा। इसकी कोई समय सीमा निश्चित नहीं थी फिर भी एक अनुमान लगाया गया था कि 2024 तक डिजिटल रुपया लंच कर दिया जाएगा। उन्होंने डिजिटल रुपया के बारे में जानकारी देते हुए यह जरूर बताया था कि इस समय सीमा के अंदर ही लंच कर दिया जाएगा।

डिजिटल रुपया के बारे में जो बात भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कहा था उसे पूरा करते हुए डिजिटल प्रोजेक्ट को दो चरणों में लंच करने की प्रक्रिया पूरी की जा चुकी है। इस तरह से भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने डिजिटल रुपया का पहला पायलट प्रोजेक्ट लंच कर दिया है जिसके लिए शुरुआती दौर में केंद्रीय बैंक ने आठ बैंको की पहचान की है। सबसे पहले इसकी शुरुआत जिन चार बैंको से होगी उनके नाम इस प्रकार है, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, यस बैंक और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक।

डिजिटल रुपया का इस्तेमाल कैसे होगा?

डिजिटल रुपए का इस्तेमाल लोगों के लिए काफी आसान और सुरक्षित होगा। आइए जानते हैं की हम इसका उपयोग कहां कहां और कैसे करेंगे:-

  • जिस प्रकार हम कादरी रुपए का इस्तेमाल किसी भी प्रकार के वस्तुएं या सामान खरीदने के लिए करते थे उसी प्रकार नए सृजन रुपए का उपयोग हम सामान एवं सेवाओं की खरीदारी में प्रयोग कर सकते हैं।
  • डिजिटल रुपया द्वारा खरीदारी करना काफी सुरक्षित होगा क्योंकि यह हमारे मोबाइल के डिजिटल वॉलेट में सुरक्षित रूप से रहेगा।
  • डिजिटल रूपया के लिए डिजिटल वॉलेट को हम गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करके अपने एटीएम कार्ड के द्वारा संचालित करके उपयोग कर सकते हैं।
  • एक बार जब डिजिटल बैलेट डाउनलोड हो जाता है तो उसमें एटीएम कार्ड या डेबिट कार्ड के माध्यम से कैसे जोड़ा जा सकता है और इस पैसे का इस्तेमाल किसी भी स्टोरिया ऑनलाइन खरीदारी या किसी भी सेवाओं के भुगतान के लिए आसानी से किया जा सकता है।
  • डिजिटल रुपया के बारे में बताते हुए सरकार ने यह भी कहा है कि इसके द्वारा किया गया हर लेन-देन बहुत ही सुरक्षित होगा क्योंकि इसे ब्लॉकचेन टोपोलॉजी के आधार पर तैयार किया गया है।
  • इस प्रकार डिजिटल वॉलेट के पैसे का उपयोग ऑनलाइन या व्यक्तिगत रूप से वस्तुओं और सेवाओं के भुगतान के लिए किया जा सकता है।
  • डिजिटल रुपया के बारे में एक और अच्छी बात कही जा सकती है कि इसके इस्तेमाल काफी सुरक्षित तरीके से होगा और काफी आसान होगा क्योंकि इसमें चोरी होने या धोखाधड़ी होने का कोई खतरा नहीं रहेगा

Leave a Comment